Videos

RECENT VIDEOS

असंगठित कामगारों का जीवन बेहतर कैसे हो? गाँव के लोग चैनल के रामजी यादव की लोजआ की संयोजक चित्रा सहस्रबुद्धे से बात-चीत (09/03/2023)

गाँव के लोग चैनल के रामजी यादव की विद्या आश्रम के अध्यक्ष सुनील सहस्रबुद्धे से बातचीत:

पाँचवीं कड़ी (17/02/2023): लोकविद्या की प्रतिष्ठा मतलब सामाजिक न्याय!

चौथी कड़ी (16/02/2023): हम शूद्र नहीं ,लोकविद्या समाज हैं!

तीसरी कड़ी (13/02/2023): लोकविद्या और ज्ञान की राजनीति

दूसरी कड़ी (11/02/2023): लोकतंत्र, फासीवाद और स्वराज

पहली कड़ी (10/02/2023): सत्ता विमर्ष बनाम राजनीतिक विमर्ष


जिनके कृतित्व से हमारे जीवन में उजाला है: गाँव के लोग चैनल की अपर्णा जी की लोजआ की संयोजक चित्रा सहस्रबुद्धे और बीएचयू के अंग्रेजी विभाग की प्रो. अर्चना कुमार जी से बात-चीत (03/01/2023)

सावित्रीबाई फुले (03/01/2023) के कार्य पर परिसंवाद में लोजआ की संयोजक चित्रा सहस्रबुद्धे

Audio Recording of Talks at SYNTALK

1. Amit Basole – The Ways of Knowing

2. Sunil Sahasrabudhey – The Power Ecology Knowledge axis

Video Recordings

Conversations with Sunil and Chitra Sahasrabudhey, political-social activists and co-founders of Vidya Ashram. All the videos are available on this Vimeo Channel.

The Social Basis for Radical Change in India http://vimeo.com/13852920

http://vimeo.com/13852920
Lokavidya (Knowledge Among the People) is a source of strength for the Bahishkrit Samaj http://vimeo.com/13659981

A Lokavidya-based critique of Science http://vimeo.com/13676137

People’s Knowledge in the Knowledge Society http://vimeo.com/13940297

A Public Hearing on Knowledge http://vimeo.com/13942766

Feminism of the Bahishkrit Samaj http://vimeo.com/14450856

The Lokavidya Perspective Direct link to video: http://vimeo.com/14480253

Lokavidya and the Local Market Direct link to video: http://vimeo.com/14508852

Knowledge Satyagraha: Towards a People’s Knowledge Movement, Vidya Ashram at the Critical Point of View Wikipedia Conference, Amsterdam (March 2010)

Direct link to video: http://www.vimeo.com/10800206

Vidya Ashram You Tube Channel

https://www.youtube.com/channel/UCl2w_d41zRbLc4tihdOFUiA

जहाँ गाँव नहीं, वहाँ सभ्यता नहीं!

%d bloggers like this: